क्यों दरभंगा महाराज ने बनवाया था दरभंगा में दूसरा लाल किला !

ASI had acknowledged the importance of this fort in Darbhanga while comparing it with Red fort of Delhi

दरभंगा बस स्टैंड के समीप स्थित दरभंगा राज का किला , सामने वाली सड़क से गुजरने वालों का ध्यान बरबस ही खीच लेता हैं | दरभंगा के महाराज का यह किला उत्तर बिहार के दुर्लभ और आकर्षक इमारतों में से एक है |

भारत सरकार के पुरातत्व विभाग ने १९७७-७८ में इस किले का सर्वेक्षण भी कराया था , तब , इसकी ऐतिहासिक महत्वता को स्वीकार करते हुए किले की तुलना दिल्ली के लाल किले से की थी |

किले के अन्दर रामबाग पैलेस स्थित होने के कारण इसे ‘ राम बाग़ का किला’ भी कहा जाता है |

वैसे दुखद बात यह है की दरभंगा महाराज की यह स्मृति है अब रख - रखाव के अभाव में एक खंडहर में तब्दील हो रहा है | शहर की पहचान के रूप में जाने वाले इस किले की वास्तुकारी पर फ़तेहपुर सीकरी के बुलंद दरवाजे की झलक मिलती है |

दरभंगा के किले का इतिहास

Red Bricks are used in construction of Darbhanga Raj's Fort
किले के निर्माण से काफी पूर्व यह इलाका इस्लामपुर नामक गाँव का एक हिस्सा था जो की मुर्शिमाबाद राज्य के नबाब , अलिबर्दी खान , के नियंत्रण में था | नबाब अलिबर्दी खान ने दरभंगा के आखिरी महाराजा श्री कामेश्वर सिंह के पूर्वजों यह गाँव दे दिया था |

इसके उपरांत सन १९३० ई० में जब महाराजा कामेश्वर सिंह ने भारत के अन्य किलों की भांति यहाँ भी एक किला बनाने का निश्चय किया तो यहाँ की मुस्लिम बहुल जनसँख्या को जमीन के मुआवजे के साथ शिवधारा , अलीनगर , लहेरियासराय- चकदोहरा आदि जगहों पर बसाया |

रामबाग कैम्पस चारों ओर से दीवार से घिरा हुआ है और लगभग ८५ एकड़ जमीन में फैला हुआ है |

किले की बनावट

Red Fort of Darbhanga also has Watch Towers and Guard Houses
किले की दीवारों का निर्माण लाल ईंटों से हुई है | इसकी दीवार एक किलोमीटर लम्बी और करीब ५०० मीटर चौड़ी है |

किले के मुख्य द्वार जिसे सिंहद्वार कहा जाता है पर वास्तुकला से दुर्लभ दृश्य उकेड़े गयें है | किले के भीतर दीवार के चारों ओर खाई का भी निर्माण किया गया था| उसवक्त खाई में बराबर पानी भरा रहता था |ऐसा किले और वस्तुतः राज परिवार की सुरक्षा के लिए किया गया था |

किले की दीवार काफी मोटी थी | दीवार के उपरी भाग में वाच टावर और गार्ड हाउस बनाए गए थे |

किले में है स्थित कंकाली मंदिर और अन्य महल

The fort houses 2 palaces and famous Kankali Temple
महाराजा महेश ठाकुर के द्वारा स्थापित एक दुर्लभ कंकाली मंदिर भी इसी किले के अंदर स्थित है | जैसा की हमने बताया था की महाराजा महेश ठाकुर को देवी कंकाली की मूर्ति यमुना में स्नान करते समय मिली थी | प्रतिमा को उन्होंने लाकर रामबाग के किले में स्थापित किया था | यह मंदिर राज परिवार की कुल देवी के मन्दिर से भिन्न है और आज भी लगातार श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करती है |

किले के अंदर दो महल भी स्थित हैं | १९७० के भूकम्प में किले की पश्चिमी दीवार क्षतिग्रस्त हो गयी , इसके साथ ही दो पैलेस में से एक पैलेस भी आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गयी | इसी महल में राज परिवार की कुल देवी भी स्थित हैं | यह महल आम लोगों के दर्शनार्थ हेतु नहीं खोले गए हैं |

क्यों किया गया किले का निर्माण !

The fort at Darbhanga was constructed in celebration of conferring the title of 'Native Prince' to King Kameshwar Singh


दरभंगा राज वस्तुतः एक बेहद समृद्ध जमीदारी व्यवस्था थी , किन्तु , औपचारिक रूप से राजाओं का दर्जा नहीं होने की बात महाराजा कामेश्वर सिंह को यह बात अक्सर खटकती रहती थी |

इतिहास के बदलते घटनाक्रम में जब देश की तत्कालीन अंग्रेज सरकार ने यह तय किया की वह दरभंगा महाराज श्री कामेश्वर सिंह को ‘ नेटिव प्रिंस’ की उपाधि देगी तो इसका अर्थ यह निकाला गया की उस स्थिति में दरभंगा राज एक ‘ प्रिंसली स्टेट’ अर्थात एक स्वतंत्र राजशाही बन जाएगी |

इस ऐतिहासिक क्षण की याद में दरभंगा राज किले का निर्माण १९३४ ई० में आरम्भ किया गया | किले के निर्माण के लिए कलकत्ता की एक कम्पनी को ठेका दिया गया |

किन्तु जब तीन तरफ से किले का निर्माण पूर्ण हो चूका था और इसके पश्चिम हिस्से की दीवार का निर्माण चल रहा था कि भारत देश को अंग्रेजी हुकूमत से आजादी मिल गयी | भारत में तब सत्ता में आयी नयी सरकार ने ‘प्रिंसली स्टेट' और जमींदारी प्रथा बंद कर दी | फलस्वरूप , अर्धनिर्मित दीवार जहाँ तक बनी थी , वहीँ तक रह गयी और किले का निर्माण बंद कर दिया गया |

किले की आज की स्थिति

The Darbhanga Raj Era strcutures inside the fort are in ruins
दरभंगा राज की अन्य धरोहरों की तरह रामबाग किले की हालत भी अब ज्यादा अच्छी नहीं है | संरक्षण के अभाव में किले की दीवारें क्षतिग्रस्त हो रहीं है और इसके ढहने का भी खतरा बना हुआ है | इसकी चाहरदीवारियों पर ढेर सारे विज्ञापन इसे बदरंग बना रहें हैं और दीवारों के उपरी हिस्से में उग आये पीपल के पौधे अपनी जड़ो से दीवारों को कमजोर करते जा रहें हैं |

महाराजा कामेश्वर सिंह की मृत्यु के बाद उनके उत्तराधिकारियों ने रामबाग़ परिसर की कीमती जमीन को बेचना शुरू कर दिया |देखते ही देखते जमीन खरीदने वालों ने भी अपने -अपने मकान बना कर कालोनियों का निर्माण कर लिया और आलीशान होटल एवं सिनेमा घर की भी स्थापना हो गयी|

किन्तु इस सबके बावजूद दरभंगा का राज किला आज भी दरभंगा अपितु सम्पूर्ण मिथिलांचल के लिए एक आकर्षण का केंद्र बना हुआ है | जिला प्रशासन एवं पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को इस एतिहासिक विरासत की सुरक्षा और सरंक्षण का जिम्मा उठाना चाहिए|

पर्यटन के दृष्टिकोण से इसे विकसित किया जाना चाहिए था जिससे यह राज्य के लिए एक आय का स्रोत हो सकता था | वैसे अभी इसकी कोई संभावना नज़र नहीं आ रही है |

Team MithilaConnect

Team MithilaConnect Google Plus

Team Mithilaconnect Local tries hard to get you aware of news , events and information's of Mithila region.Bless US !

Latest Articles

मॉडर्न-क्लासिक मैथिलि साहित्य की 5 बड़ी हस्तियाँ

mithilas_greatest_writers

सन १८३० के बाद का दौर मॉडर्न मैथिलि लिटरेचर की...

इसलिए इतनी महवपूर्ण हैं अभीष्टफल दायिनी महाशिवरात्रि

Shivratri is associated with many stories of Lord Shiva

शिवरात्रि शिव को बहुत ही प्रिय है जिस कारण इसे...

क्यों वर्जित होतें हैं शुभ कार्य खरमास काल में

Kharmas is observed in Mithila twice a year

हिन्दू पंचांग एवं वैदिक ज्योतिष की गणना के...

Most Read Articles

क्यों प्रसिद्ध है कोइलख ग्राम मिथिला की काशी के रूप में !

Bhadrakali Kokilakshi Temple in Koilakh Village of Madhubani

मधुबनी जिलान्तर्गत कोइलख गॉव राजनगर प्रखंड में...

दरभंगा महाराज के पास था विश्वस्तरीय जवाहरातों का संग्रह!

King Rameshwar Singh of Darbhanga  had the unique Naulakha haar

दरभंगा महाराज कामेश्वर सिंह को अनमोल जवाहरातों...

कैसे जुझारपुर बना झंझारपुर !

कभी दरभंगा महाराज को आश्रय देनेवाला - झंझारपुर...