neta hindi joke

अपनों के बीच

Jokes

neta hindi jokeएक बार एक नेता कैदियों का निरीक्षण करने के उद्देश्य से जेल पहुँचा।

जब खाने पर सारे कैदी इकट्ठे हुए तो जेलर ने नेता से अनुरोध किया कि वह कैदियों को कुछ उपदेश दे।

नेताजी तुरन्त खड़े होकर बिना सोचे भाषण देने लग गए-‘‘माननीय जेलर महोदय और आदरणीय नागरिकों…..‘‘

कैदियों के मुस्कुराते चेहरे देखकर नेताजी को तुरन्त अहसास हुआ कि जेल में बंद कैदी ‘आदरणीय नागरिक‘ नहीं हो सकते,

इसलिए उनहोंने सम्भलकर अपनी गलती को सुधारते हुए कहा-‘‘मेरे साथी मुजरिमों…..

‘‘जेलर ने घबराकर नेता का पांव दबा दिया।  नेताजी बौखला गए।

एक नजर जेलर पर डालकर वह पसीना पोंछने लगे, फिर बोले-‘‘मेरी समझ में कुछ नहीं आता कि

मैं आप लोगों को किस तरह सम्बोधित करूं, लेकिन मुझे अपने-आपको आपके बीच पाकर बहुत खुशी हो रही है।

; यूं लगता है जैसे मैं अपनों में आ गया हूँ।‘‘

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *