अपनों के बीच

neta hindi jokeएक बार एक नेता कैदियों का निरीक्षण करने के उद्देश्य से जेल पहुँचा।

जब खाने पर सारे कैदी इकट्ठे हुए तो जेलर ने नेता से अनुरोध किया कि वह कैदियों को कुछ उपदेश दे।

नेताजी तुरन्त खड़े होकर बिना सोचे भाषण देने लग गए-‘‘माननीय जेलर महोदय और आदरणीय नागरिकों.....‘‘

कैदियों के मुस्कुराते चेहरे देखकर नेताजी को तुरन्त अहसास हुआ कि जेल में बंद कैदी ‘आदरणीय नागरिक‘ नहीं हो सकते,

इसलिए उनहोंने सम्भलकर अपनी गलती को सुधारते हुए कहा-‘‘मेरे साथी मुजरिमों.....

‘‘जेलर ने घबराकर नेता का पांव दबा दिया।  नेताजी बौखला गए।

एक नजर जेलर पर डालकर वह पसीना पोंछने लगे, फिर बोले-‘‘मेरी समझ में कुछ नहीं आता कि

मैं आप लोगों को किस तरह सम्बोधित करूं, लेकिन मुझे अपने-आपको आपके बीच पाकर बहुत खुशी हो रही है।

; यूं लगता है जैसे मैं अपनों में आ गया हूँ।‘‘

Team MithilaConnect

Team MithilaConnect Google Plus

Team Mithilaconnect Local tries hard to get you aware of news , events and information's of Mithila region.Bless US !

More Hindi Jokes

बुरे सपने
ghora_ghass.gif एक व्यक्ति डॉक्टर से " डॉक्टर साहब, मुझे रात...Read more...
सात हजार की भैंस
bhains_ki_aankh.gif इस भैंस की तो एक आंख खराब है, फिर सात हजार...Read more...
कितने सालों में
how_many_years_joke.gif एक विदेशी ने दिल्ली भ्रमण के दौरान लाल किला...Read more...
Writers Requirement