क्या ख़ास है दरभंगा के चंद्रधारी संग्रहालय में !

News


Darbhanga Museum Timings/Attractions

दरभंगा के आकर्षणों में से एक है स्टेशन के समीप  चंद्रधारी म्यूजियम |

मिथिलांचल के सांस्कृतिक पुरानवशेषों , कलाकृतियों को एक-एक व्यक्तियों तक पहुंचाने के उद्देश्य से चंद्रधारी संग्रहालय की स्थापना ७ दिसम्बर १९५७ ई० को की गयी |

सर्वप्रथम इसका नाम मिथिला संग्रहालय रखा गया |

लेकिन मधुबनी जिला के रांटी सूबे के जमींदार बाबू चंद्रधारी सिंह द्वारा बहुत सी कलाकृतियों एवं धरोहरों को दान स्वरूप देने के इस संग्रहालय को दिया | जिस कारण मिथिला संग्रहालय का नाम बदलकर चंद्रधारी संग्रहालय रख दिया गया |

दीर्घाओं

संग्रहालय की सामग्री और व्यवस्था के आधार पर इसे कुल ११ दीर्घाओं में बांटा गया है | हम यहाँ संक्षेप में कुछ दीर्घाओं का बर्णन कर रहे हैं-

कांच दीर्घा –

इस दीर्घा में एक घुमावदार आइना दर्शकों को अपना चेहरा देखने के लिए रखा गया है | जिसमें दर्शक अपना चेहरा देखते ही हंसने लगते हैं | क्योकि आइना में दर्शकों की चेहरा वक्र दार बन जाती है |

परिधान  दीर्घा –

वस्त्र दीर्घा में मिथिला की परम्परागत वस्त्र , खासकर पाग , धोती , मिरजई एवं चादर रखे गए हैं | राज परिवार की वस्त्र जैसे – काश्मीरी शाल , बनारसी साड़ियाँ जिसके उपर सोने और चांदी के तार से कलाकारी किये गए हैं , दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है |

प्राकृतिक ऐतिहासिक दीर्घा –

इस दीर्घा में रायल बंगाल टाइगर ,  चीता , भालू , हाथी के सिर एवं विभिन्न आकार में हिरणों के सींग प्रदर्शन के लिए रखे गए हैं |

हाथी दांत दीर्घा –

हाथी दांत दीर्घा में  हाथी की दांत से बने अनेक घरेलु उपयोग की वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया है |

चंद्रधारी म्यूजियम का गत वर्षो में जीर्णोधार भी हुआ है और इसमे कुछ नए आकर्षण भी जोड़े गए हैं |इन्ही में से एक है परिसर स्थित थीमेटिक पार्क |यह पार्क रामायण काल के घटनाक्रम पर आधारित है | इसके साथ ही दरभंगा पर राज करने वालेओईनवार और खान्डवला कुल के अवशेषों और मिथिला लोक परंपरा की यहाँ आप  झलक पा सकते हैं |

दरभंगा म्यूजियम सोमवार के अलावा सातो दिन अपराहन ४:३० तक खुली होती है |

Author: Team MithilaConnect

Team MithilaConnect provides the information and in depth details about the news , articles and events in Mithila Region of Bihar.
Follow us on Twitter , Like us on FaceBook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *