तो क्या केवल पुस्तकों में रह जायेगा अहिल्या स्थान और विद्यापति डीह ?

मिथिला की पुण्य धरती पौराणिक ,  सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक धरोहरों के लिए प्रसिद्ध है | यह महाभारतकाल से लेकर रामायणकाल तक के कई प्रसंगों को अपनी गोद में समेटे हुई है | इसलिए महाभारत और रामायण के प्रसंगों से सम्बंधित मिथिलांचल के स्थान लोगों के बीच आस्था  और विश्वास का केंद्र बन गया है | […]

Continue Reading
A temple of Vidyapati in Samastipur district of Bihar

कवि विद्यापति की थी दो पत्नियाँ : जीवन परिचय और पृष्टभूमी

  बात करतें है विधापति का जीवन परिचय की तो इस मैथिलि के महा-कवि का जन्म दरभंगा जिले के जरैल परगना के अंतर्गत बिस्फी गाँव में एक मैथिल ब्राह्मण परिवार में हुआ था | वे विशैवार गूढ़ मूल के काश्यप गोत्रीय ब्राह्मण थे | दरभंगा राज पुस्तकालय में सुरक्षित विद्यापति द्वारा लिखित श्रीमद् भागवत की […]

Continue Reading
Vidyapati belonged to Mithila or Bengal has always been a topic of debate

विद्यापति बंगाली थे या मैथिल ? (Vidyapati- A Maithil or a Bengali)

बिहार के मधुबनी जिले का नाम साहित्य , कला ,विज्ञानं , वीरता ,धैर्य ,साहस ,भक्ति , सौंदर्य एवं अन्य क्षेत्रों में स्वार्णाक्षरों में अंकित है। यहाँ की अनेक विभूतियां अपने तेज प्रखर से भारत भूमि को महिमा मंडित करती रही है। इन्ही विभूतियों में एक –  कोकिल विद्यापति थे  जिनका जन्म  प्रान्त के मधुबनी जिलान्तर्गत […]

Continue Reading